सावरकर ने एक सभा में कहा था 'मुझे समझने में भारत को 50 वर्ष लगेंगे'

सावरकर ने एक सभा में कहा था 'मुझे समझने में भारत को 50 वर्ष लगेंगे'


राष्ट्रदेव


26 फरवरी, 1966 को सावरकर के “आत्मार्पण" पर जब कुछ सांसदो ने सदन में शोक प्रस्ताव का विचार रखा तो उसे यह कह कर ठुकरा दिया गया कि वह सदन के सदस्य नहीं थे।


हालांकि जब पूछा गया कि अगर शोक व्यक्त करने के लिए संसद का सदस्य होने की बाध्यता है तो चर्चिल और लेनिन के निधन पर भारत की संसद में शोक क्यों व्यक्त किया गया? इसका उत्तर शोक प्रस्ताव का विरोध करने वाले किसी सांसद के पास नहीं था।


सारा राष्ट्र अचंभित व कृतज्ञ था जब 37 वर्ष बाद 26 जनवरी, 2003 को उसी सदन के केन्द्रीय कक्ष में तत्कालीन राष्ट्रपति डा० ए.पी.जे. अब्दुल कलाम व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के हाथों उसी 'कालजयी' के चित्र का श्रद्धा और सम्मान के साथ अनावरण हआ ।


Popular posts
मां मातंगी महाविद्या साधना एवं कवच ,जप अघोरी भैरव गौरव गुरुजी मां कामाख्या धाम के आदेश एवं मार्गदर्शन में ही करें आदेश आदेश
Image
रुद्राक्ष धारण करने वाले के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं आइये जानते हैं रुद्राक्ष कितने प्रकार के होते हैं
Image
जन्माष्टमी पर स्वयंसेवकों ने किया बंसी वादन
Image
रावेर खेड़ी स्थित श्रीमंत बाजीराव पेशवा प्रथम की समाधि का होगा जीर्णोद्धार बनेगा एक भव्य स्मारक।
MPEB के सीनियर ऑफिसर प्रदीप मिश्रा व अन्य साथी के साथ कालिंदी गोल्ड सिटी मैं मारपीट की घटना हुई घटना की रिपोर्ट बाणगंगा थाने में दर्ज कराई गई
Image