कल तेजाजी का होगा पुजन

8 सितम्बर  रविवार को भाद्रपद शुक्ल पक्ष की दशमी, इस दिन किया जात है तेजाजी का पूजन




मान्यता - सर्पदंश से बचने के लिए की जाती है तेजाजी की पूजा



 




जीवन मंत्र डेस्क। रविवार, 8 सितंबर को भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि है। इस तिथि पर तेजादशमी का पर्व मनाया जाता है। इस दिन तेजाजी महाराज के मंदिरों में मेला लगता है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार सर्पदंश से बचने के लिए तेजाजी महाराज की विशेष पूजा की जाती है। खासतौर पर ये पर्व ग्रामीण क्षेत्रों में मनाया जाता है। जानिए इस पर्व से जुड़ी कथा...
तेजा दशमी की कथा



  • प्रचलित कथा के अनुसार प्राचीन समय में तेजाजी राजा बाक्साजी के पुत्र थे। वे बचपन से ही साहसी थे और जोखिमभरे काम करने से भी नहीं डरते थे। एक बार वे अपने साथी के साथ बहन को लेने उसके ससुराल गए। उस दिन भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि थी। बहन के ससुराल जाने पर तेजा को पता चलता है कि मेणा नामक डाकू अपने साथियों के साथ बहन की ससुराल से सारी गायों को लूटकर ले गया है।

  • तेजाजी अपने साथी के साथ जंगल में मेणा डाकू से गायों को छुड़ाने के लिए जाते हैं। रास्ते में एक बांबी के पास भाषक नाम का सांप घोड़े के सामने आ जाता है और तेजा को डंसने लगता है। इसके बाद तेजाजी उस सांप को वचन देते हैं कि अपनी बहन की गायों को छुड़ाने के बाद मैं वापस यहीं आऊंगा, तब मुझे डंस लेना। ये सुनकर सांप ने रास्ता छोड़ दिया।

  • तेजाजी डाकू से अपनी बहन की गायों को आजाद करवा लेते हैं। डाकूओं से हुए युद्ध की वजह से वे लहुलुहान हो जाते हैं और ऐसी ही अवस्था में सांप के पास जाते हैं।

  • तेजा को घायल अवस्था में देखकर नाग कहता है कि तुम्हारा पूरा शरीर खून से अपवित्र हो गया है। मैं डंक कहां मारुं? तब तेजाजी उसे अपनी जीभ पर काटने के लिए कहते हैं।

  • तेजाजी की वचनबद्धता को देखकर नागदेव उन्हें आशीर्वाद देते हैं कि जो व्यक्ति सर्पदंश से पीड़ित है, वह तुम्हारे नाम का धागा बांधेगा, उस पर जहर का असर नहीं होगा। उसके बाद नाग तेजाजी की जीभ पर डंक मार देता है। इसके बाद से हर साल भाद्रपद शुक्ल दशमी को तेजाजी के मंदिरों में श्रृद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। जिन लोगों ने सर्पदंश से बचने के लिए तेजाजी के नाम का धागा बांधा होता है, वे मंदिर में पहुंचकर धागा खोलते




Popular posts
मां मातंगी महाविद्या साधना एवं कवच ,जप अघोरी भैरव गौरव गुरुजी मां कामाख्या धाम के आदेश एवं मार्गदर्शन में ही करें आदेश आदेश
Image
रुद्राक्ष धारण करने वाले के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं आइये जानते हैं रुद्राक्ष कितने प्रकार के होते हैं
Image
जन्माष्टमी पर स्वयंसेवकों ने किया बंसी वादन
Image
रावेर खेड़ी स्थित श्रीमंत बाजीराव पेशवा प्रथम की समाधि का होगा जीर्णोद्धार बनेगा एक भव्य स्मारक।
MPEB के सीनियर ऑफिसर प्रदीप मिश्रा व अन्य साथी के साथ कालिंदी गोल्ड सिटी मैं मारपीट की घटना हुई घटना की रिपोर्ट बाणगंगा थाने में दर्ज कराई गई
Image