गजल

                   ||  गजल ||


दर्द के आशियानों में दिल को संभाल रखा है ,


शीशे के  प्यार में  सपनों को  संभाल रखा है ||


वे खबर  सांसे नाचती   रही लहरों के  संग .


सूखी नदियों के किनारे को संभाल रखा है ||


साथ होकर भी  चलना पाए थे साथ मेरे .


पकड़   छांव  हमने खुद को संभाल रखा है ||


लिख न   पाये हम   अपनी    ही दासता .


कोरे पन्नों को अब.  तक संभाल  रखा है ||


बिखर गए.  फूल.   भी    महकते- महकते .


तितलियों ने आंसुओं को भी संभाल रखा है ||


एक तरफ आदमी  अजनबी सा लगता है .


दुनिया भर के मुखौटों को संभाल रखा है ||


देह की   बस्ती    में मन.  तडपता ही रहा .


सीने में जलती आग को संभाल रखा है ||


बचना पाया भगवान भी सौदागरों के जाल से .


 पता नहीं किसने किसको  संभाल रखा है ||


               (लेखक राजेंद्र कोचला )


 


 


Popular posts
मां मातंगी महाविद्या साधना एवं कवच ,जप अघोरी भैरव गौरव गुरुजी मां कामाख्या धाम के आदेश एवं मार्गदर्शन में ही करें आदेश आदेश
Image
रुद्राक्ष धारण करने वाले के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं आइये जानते हैं रुद्राक्ष कितने प्रकार के होते हैं
Image
जन्माष्टमी पर स्वयंसेवकों ने किया बंसी वादन
Image
रावेर खेड़ी स्थित श्रीमंत बाजीराव पेशवा प्रथम की समाधि का होगा जीर्णोद्धार बनेगा एक भव्य स्मारक।
MPEB के सीनियर ऑफिसर प्रदीप मिश्रा व अन्य साथी के साथ कालिंदी गोल्ड सिटी मैं मारपीट की घटना हुई घटना की रिपोर्ट बाणगंगा थाने में दर्ज कराई गई
Image